डाॅ देवेन्द्र जोशी का नया कीर्तिमान ** वोकल एप पर तीन दिन में 125 सवालों के जवाब देकर जुटाए 10 हजार से अधिक विवर्स ******* कोरोना जनित अवकाश के सदुपयोग की कायम की मिसाल

उज्जैन। कोरोना आपदा की घडी में जब सब अपने - अपने घरों में रहते हुए लाॅक डाउन का पालन कर रहे हैं ऐसे समय में रचनात्मकता और अपनी प्रतिभा से किस तरह लोगों के ज्ञान और अनुभव में वृद्धि की जा सकती है इसकी मिसाल बने हैं नगर के वरिष्ठ पत्रकार और शिक्षाविद डाॅ देवेन्द्र जोशी। जिन्होंने खाली समय का सदुपयोग करते हुए गूगल प्लेस्टोर के वोकल एप पर तीन दिन में 125 से अधिक प्रश्नों का जवाब देकर 10 हजार से अधिक विवर्स (दर्शक/ श्रोता) जुटाने का नया कीर्तिमान रचा है। इतनी कम अवधि में 125 से अधिक फालोअर्स इस एप पर जुटाने वाले डाॅ जोशी के उत्तर जनरल नाॅलेज, प्रतिस्पर्धी परीक्षा, शिक्षा, रोजगार, आजीविका, युवा मार्ग दर्शन और संस्कार शिक्षा पर आधारित हैं।


वोकल एप पर डाॅ जोशी के जवाब तेजी पसंद किए जाने का ही नतीजा है कि मात्र तीन दिन में इन जवाब को सुनने वालों का आंकडा 10 हजार को पार कर गया। उल्लेखनीय है कि प्राध्यापकों और विषय विशेषज्ञों द्वारा दिए जाने वाले जवाबों पर आधारित भारतीय भाषाओं की इस एप पर देश भर के प्रश्नार्थी घर बैठे प्रश्न पूछकर लाभान्वित हो रहे हैं। यहां उपलब्ध जवाबों की संख्या 5 लाख तथा कुल सुनने वालों की संख्या करोडों में है।अपनी इन्हीं विशेषताओं के कारण इन दिनों यह एप युवाओं में बहुत उपयोगी हो रहा है।  इस एप पर ही नहीं कोरोना लाॅक डाउन की संपूर्ण अवधि में समसामयिक विषयों पर लेख, कविता, व्यंग्य, टिप्पणी आदि लगातार लेखन का भी डाॅ जोशी ने रिकार्ड कायम किया है। इस रचनात्मक उपलब्धि और समय के यथेष्ठ इस्तेमाल के लिए मीडिया के साथियों ने डाॅ जोशी को बधाई दी है।

Popular posts
जल की बात जलाशय पर -जल योद्धा उमा शंकर पांडे आँखों में पानी बचेगा तभी पानी बचेगा –टिल्लन रिछारिया
भारतीय चिंतन परम्परा में प्रकृति, भगवान के समतुल्य  हरियाली अमावस्या पर्व पर राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना की अंतरराष्ट्रीय वेब संगोष्ठी में सम्मिलित हुए देश दुनिया के विद्वान और प्रतिभागी
द्रौपदी तत्कालीन नारी अत्याचार की प्रतीक - डाॅ  जोशी
Image
वाल्मीकि समाज अधिकारी-कर्मचारी संघ जिला इकाई में नियुक्तियाँ
दौलतगंज क्षेत्र में दुकान व्यवसाईयो द्वारा कचरा खुले में फेंकने एवं डस्टबिन नहीं रखने पर निरंतर चालानी कार्यवाही की जाए - आयुक्त श्री क्षितिज सिंघल