सड़क दुर्घटना में मृत श्रमिकों के परिवारों को एक - एक लाख रूपए की सहायता राशि किसी भी राज्य के श्रमिक हों, आर्थिक मदद करेगी मध्यप्रदेश सरकार 

सड़क दुर्घटना में मृत श्रमिकों के परिवारों को एक - एक लाख रूपए की सहायता राशि


किसी भी राज्य के श्रमिक हों, आर्थिक मदद करेगी मध्यप्रदेश सरकार 


राज्य सरकार द्वारा प्रदेश में सड़क दुर्घटना का शिकार हुए प्रवासी श्रमिक परिवारों को आर्थिक सहायता दी जाएगी। इस संबंध में निर्देश जारी कर दिए गए हैं। छतरपुर जिले में कल हुई सड़क दुर्घटना में मृतक श्रमिकों के परिवार को एक-एक लाख रूपए और घायलों को 25-25 हज़ार रूपए की सहायता राशि मुख्यमंत्री सहायता कोष से प्रदान की गई है। गत दिवस छतरपुर में हुई सड़क दुर्घटना में छह मजदूरों की मृत्यु हुई थी और 16 मजदूर घायल हुए थे। ये मज़दूर उत्तरप्रदेश के निवासी थे और अपने घर लौट रहे थे। 


म.प्र. शासन सामान्य प्रशासन विभाग के आदेश के अनुसार छतरपुर कलेक्टर ने सड़क दुर्घटना में मृत्यु पर प्रत्येक मृतक के परिवार को 15 हजार रुपये और घायलों को 7 हज़ार 500 रूपए  की आर्थिक सहायता राशि अतिरिक्त रूप से स्वीकृत की है। इस तरह इस दुर्घटना में मृत्यु पर 1 लाख 15 हजार और घायल होने पर 32 हजार 500 रुपये की आर्थिक सहायता प्रभावित परिवारों को दी गई।


सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा जारी आदेश के अनुसार कोविड-19 महामारी के दौरान अन्य राज्य से उनके मूल राज्यों की ओर प्रस्थान कर रहे प्रवासी श्रमिकों की यदि मध्यप्रदेश राज्य में किसी आकस्मिक दुर्घटना में मृत्यु हो जाती है तो उस स्थिति में राज्य शासन मृतक प्रवासी श्रमिक के परिवार को एक लाख रूपये एवं गंभीर रूप से घायल होने पर प्रवासी श्रमिक को 25 हजार रुपये की सहायता राशि मुख्यमंत्री सहायता कोष से स्वीकृत करेगा।


Popular posts
जल की बात जलाशय पर -जल योद्धा उमा शंकर पांडे आँखों में पानी बचेगा तभी पानी बचेगा –टिल्लन रिछारिया
भारतीय चिंतन परम्परा में प्रकृति, भगवान के समतुल्य  हरियाली अमावस्या पर्व पर राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना की अंतरराष्ट्रीय वेब संगोष्ठी में सम्मिलित हुए देश दुनिया के विद्वान और प्रतिभागी
द्रौपदी तत्कालीन नारी अत्याचार की प्रतीक - डाॅ  जोशी
Image
वाल्मीकि समाज अधिकारी-कर्मचारी संघ जिला इकाई में नियुक्तियाँ
दौलतगंज क्षेत्र में दुकान व्यवसाईयो द्वारा कचरा खुले में फेंकने एवं डस्टबिन नहीं रखने पर निरंतर चालानी कार्यवाही की जाए - आयुक्त श्री क्षितिज सिंघल