डॉ देवेन्द्र जोशी की 15 वीं पुस्तक त्योहार भारत के का विमोचन संपन्न
डॉ देवेन्द्र जोशी की 15 वीं पुस्तक त्योहार भारत के का विमोचन संपन्न

*******************************************************


उज्जैन।॓अपनी परंपरा, संस्कृति, रीति रिवाज, मूल्य और आदर्शों की जानकारी हमें अपने त्योहारों से ही मिलती है। ये त्योहार जीवन में उल्लास का संचार करने के साथ ही हमारी जानकारी में वृद्धि करते हैं। भारत ही एक ऐसा देश है जिसका हर दिन किसी उत्सव से कम नहीं होता । हमारी संस्कृति का समूचा ताना - बाना इसके त्योहारों की उत्सवधर्मिता को ध्यान में  रखकर बुना गया है।॔ उक्त विचार लेखक पत्रकार डॉ देवेन्द्र जोशी की नई पुस्तक त्योहार भारत के का विमोचन करते हुए अतिथियों ने व्यक्त किये। कार्यक्रम डॉ विनायक करूण,डेन्टल सर्जन इन्दौर, डॉ सुप्रिया जोशी डेंटिस्ट इन्दौर, ज्योति दुबे देवास, कवियित्री गीतकार सीमा जोशी के आतिथ्य में संपन्न हुआ। अध्यक्षता समाजसेवी और जयभारती प्रोफेशनल इन्सिट्यूट के डायरेक्टर राजेंद्र जोशी ने की। 


रंगमंच प्रकाशन गंगापुर सिटी राजिस्थान से प्रकाशित डॉ जोशी की इस पुस्तक में देश के सभी धर्मों के 100 से अधिक त्योहारों का वर्णन ‌है। बिहु, ओणम,पोंगल, रथयात्रा,नवरोज के साथ ही हिन्दू, मुस्लिम, सिख, इसाई, जैन, बौद्ध, सिन्धी तथा 15 अगस्त और 26 जनवरी जैसे राष्ट्रीय पर्वों को अपने में समेटे यह कृति उत्तर से दक्षिण और पूरब से पश्चिम तक भारत को एकता के सूत्र में पिरोती है। उल्लेखनीय है कि डॉ जोशी की अब तक कुल 15 पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी है और इस साल की उनकी यह पांचवीं पुस्तक है। कार्यक्रम का संचालन विपुल जोशी ने किया आभार अवनि जोशी ने ‌माना।

लाक डाउन नियमों का पालन करते हुए विमोचन सीमित सुधिजनो  के बीच संपन्न हुआ।

Popular posts
जल की बात जलाशय पर -जल योद्धा उमा शंकर पांडे आँखों में पानी बचेगा तभी पानी बचेगा –टिल्लन रिछारिया
भारतीय चिंतन परम्परा में प्रकृति, भगवान के समतुल्य  हरियाली अमावस्या पर्व पर राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना की अंतरराष्ट्रीय वेब संगोष्ठी में सम्मिलित हुए देश दुनिया के विद्वान और प्रतिभागी
द्रौपदी तत्कालीन नारी अत्याचार की प्रतीक - डाॅ  जोशी
Image
वाल्मीकि समाज अधिकारी-कर्मचारी संघ जिला इकाई में नियुक्तियाँ
दौलतगंज क्षेत्र में दुकान व्यवसाईयो द्वारा कचरा खुले में फेंकने एवं डस्टबिन नहीं रखने पर निरंतर चालानी कार्यवाही की जाए - आयुक्त श्री क्षितिज सिंघल