कोविड-१९ के बढ़ते प्रभाव के मद्देऩजर मजार-ए-नजमी एवं हसनजी बादशाह की दरगाह ३० सितंबर तक बंद रहेंगे।

कोविड-१९ के बढ़ते प्रभाव के मद्देऩजर मजार-ए-नजमी एवं हसनजी बादशाह की दरगाह ३० सितंबर तक बंद रहेंगे।
उज्जैन। कोरोना महामारी के बढ़ते प्रभाव को दृष्टिगत रखते हुए मजार-ए-नजमी एवं हसनजी बादशाह की दरगाह जायरिन के लिए २३ सितंबर २०२० से ३० सितंबर २०२० तक के लिए बन्द की गई है। यह निर्णय मजार प्रबंधक की ओर से लिया गया है। मजारे बन्द करने का मुख्य उद्देश्य कोविड-१९ के प्रतिदिन संख्या बढ़ती जा रही है। शहर एवं मध्यप्रदेश के कई शहरों से प्रतिदिन जायरिन दर्शन के लिए आ रहे थे। जिसके चलते यह निर्णय लिया गया। समाजजनों से अपील की गई है कि सभी शासन प्रशासन की गाईड लाईन का पालन करें। अपने घरों में सुरक्षित रहे। कोई जरूरी कार्य हो तो ही घर से बाहर निकले। खासकर बच्चे, बुजुर्ग विशेष रूप से नियम का पालन करें।


Popular posts
जल की बात जलाशय पर -जल योद्धा उमा शंकर पांडे आँखों में पानी बचेगा तभी पानी बचेगा –टिल्लन रिछारिया
भारतीय चिंतन परम्परा में प्रकृति, भगवान के समतुल्य  हरियाली अमावस्या पर्व पर राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना की अंतरराष्ट्रीय वेब संगोष्ठी में सम्मिलित हुए देश दुनिया के विद्वान और प्रतिभागी
द्रौपदी तत्कालीन नारी अत्याचार की प्रतीक - डाॅ  जोशी
Image
वाल्मीकि समाज अधिकारी-कर्मचारी संघ जिला इकाई में नियुक्तियाँ
दौलतगंज क्षेत्र में दुकान व्यवसाईयो द्वारा कचरा खुले में फेंकने एवं डस्टबिन नहीं रखने पर निरंतर चालानी कार्यवाही की जाए - आयुक्त श्री क्षितिज सिंघल