शरद रात में हुई कविता....कविसम्मेलन में बरसा काव्य अमृत

शरद रात में हुई कविता....
कविसम्मेलन में बरसा काव्य अमृत
उज्जैन। कुमारसंभव भाई के संयोजन में कविसम्मेलन
महालक्ष्मी विहार में नारायण मंदिर प्रांगण में कुमारसम्भव जी के संयोजन में शरद पूर्णिमा की रात काव्य अमृत बरसा।
स्थानीय नवरात्रि समिति ने शरद पूर्णिमा पर कविसम्मेलन तथा खीर वितरण का आयोजन किया। रात 9 बजे शरू हुआ कविसम्मेलन देर तक चला। संचालन श्री नरसिंह ईनाणी ने किया। श्री नायक "दुबले" ने कवि सम्मेलन की ओपनिंग की तथा हास्य व्यंग्य की फुलझड़ियों से श्रोताओं को गुदगुदाया। डॉ मोहन बैरागी ने मीठे गीतों से रस घोल दिया तो वही कवि विजय शर्मा गोपी ने उपस्थित श्रोताओं को खूब हंसाया,इसके बाद कुमार संभव के भगवान कृष्ण पर मुक्तक और गीत को सुना।बड़े कवि सुरेंद्र सर्किट ने चाँदनी रात में कविसम्मेलन को ऊँचाई दी फिर नरसिंह ईनाणी ने कृष्ण पर गीत पढ़ श्रोताओं से खूब तालियां बजवाई।


Popular posts
जल की बात जलाशय पर -जल योद्धा उमा शंकर पांडे आँखों में पानी बचेगा तभी पानी बचेगा –टिल्लन रिछारिया
भारतीय चिंतन परम्परा में प्रकृति, भगवान के समतुल्य  हरियाली अमावस्या पर्व पर राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना की अंतरराष्ट्रीय वेब संगोष्ठी में सम्मिलित हुए देश दुनिया के विद्वान और प्रतिभागी
द्रौपदी तत्कालीन नारी अत्याचार की प्रतीक - डाॅ  जोशी
Image
वाल्मीकि समाज अधिकारी-कर्मचारी संघ जिला इकाई में नियुक्तियाँ
दौलतगंज क्षेत्र में दुकान व्यवसाईयो द्वारा कचरा खुले में फेंकने एवं डस्टबिन नहीं रखने पर निरंतर चालानी कार्यवाही की जाए - आयुक्त श्री क्षितिज सिंघल